हिसार- अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय मुख्य महासचिव व हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने व्यापारी व किसान नेताओं से बातचीत करने के उपरांत कहा कि 28 अगस्त 2021 को एसडीएम द्वारा किसानों के सिर फोड़ देने के आदेश देने वाले दोषी एसडीएम व अन्य दोषी अधिकारियों के खिलाफ सरकार को मुकदमा दर्ज करके, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। सरकार को किसानों से बातचीत करके तुरंत इस समस्या का समाधान करना चाहिए। तीन दिन से इंसाफ लेने के लिए हजारों किसान करनाल में शांतिपूर्वक धरना लगाए बैठे हैं।

जबकि सरकार किसानों की समस्या को हल करने की बजाए सरकार ने तीन दिन से इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी है, जिसके कारण 60 करोड़ रुपए का व्यापार प्रभावित हो चुका है जबकि हर ट्रेड का व्यापार व उद्योगों में लेन-देन इंटरनेट से होता है। इंटरनेट बंद होने से ना भुगतान हो रहा है और ना ही पेमेंट आ रही है। यहां तक की जब कोई भी वाहन बेचा जाता है उसका भुगतान वाहन डिलरों द्वारा कंपनियों को ऑनलाइन भुगतान किया जाता है। इंटरनेट बंद होने से लगभग वाहन की बिक्री भी पूरी तरह ठप्प हो गई है। राष्ट्रीय मुख्य महासचिव बजरंग गर्ग ने कहा कि 28 अगस्त को करनाल में किसानों ‌पर लाठीचार्ज होने के बाद ही करनाल जिले के साथ-साथ आसपास जिलों में 28 अगस्त से व्यापार पूरी तरह से प्रभावित है। सरकार द्वारा इंटरनेट बंद करने का कोई औचित्य नहीं है।

सरकार की गलत नीतियों व कोरोना महामारी के कारण प्रदेश में पहले ही व्यापार व उद्योग ठप्प पड़े हैं ऊपर से सरकार द्वारा किसानों की समस्या का समाधान ना करने से उद्योगों में बड़ा भारी नुकसान हो रहा है। जिसके कारण देश व प्रदेश में पहले से ज्यादा बेरोजगारी बढ़ रही है। राष्ट्रीय मुख्य महासचिव बजरंग गर्ग ने कहा कि जब देश व प्रदेश का किसान, आढ़ती व मजदूर तीन कृषि कानून नहीं चाहता तो सरकार क्यों जबरन तीन कृषि कानून थोपना चाहती है यह सोचने का विषय है। सरकार को अपनी जिद छोड़कर किसानों से बातचीत करके तीन कृषि कानून की समस्या का समाधान करके किसान आंदोलन को खत्म करवाना चाहिए ताकि देश की अर्थव्यवस्था जो लगातार खराब हो रही है उसमें सुधार लाया जा सके।‌

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *