जनता की कलम से

निजीकरण: देश की मजबूरी या सत्ता की मजबूती !

  निजीकरण का जब नाम आता है तो बेहतर सुविधाओं के अनुभव का अहसास कराता है तो वही कम आय