हिसार(रश्मि बालियान) –

हिसार के नागरिक अस्पताल में गर्भवती महिलाओं की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं क्योंकि अस्पताल के गायनी विभाग से एक और महिला चिकित्सक डॉक्टर वीना मलिक ने नोटिस दे दिया है।उन्होंने नोटिस में बताया है कि वह अगले महीने की 15 दिसंबर तक अस्पताल में ड्यूटी देंगी।

दूसरी ओर गायनी वार्ड प्रभारी डा. अनिता बंसल दो माह से छुट्टी पर चल रही है। बताया जा रहा है कि डा. अनिता पांच से छह माह बाद सेवानिवृत्त होने वाली है। दोनों महिला चिकित्सक के जाने के बाद ओपीडी व गायनी वार्ड खाली हो जाएगा। इससे गर्भवती व मरीजाें की समस्या बढ़ेगी।

इससे पहले भी गायनी वार्ड से दो महिला चिकित्सक डा. मनीषा शर्मा व डा. शीतल वर्मा रिजाइन दे चुकी है। शुरू में गायनी ओपीडी में चार महिला चिकित्सक थी। प्रतिदिन की ओपीडी और डिलिवरी केस को देखते उनसे भी संभल पाना मुश्किल होता था। अस्पताल में रोजाना 150 से 200 ओपीडी व 20 के आसपास डिलिवरी होती है। इसके अलावा गर्भवती महिलाएं भी वार्ड में दाखिल रहती है।

यही हाल रहा तो जिला अस्पताल गर्भवतियाें के लिए रेफरल सिस्टम बनकर रह जाएगा। यह जिले का सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल है और सीएचसी-पीएचसी व सब डिविजन से रेफर होकर मरीज यहीं पर इलाज के लिए आते है। अगर यहां भी उपचार न मिला तो उनको सीधा अग्रोहा या रोहतक पीजीआई जाना पड़ेगा।

ओपीडी में नहीं थी चिकित्सक

दो महिला चिकित्सकों के छोड़ जाने के बाद डा. मीना पर ही गर्भवती की सिजेरियन डिलिवरी का कार्यभार है। सुबह 9 बजे आते ही शाम 3 बजे तक वह ऑपरेशन करती है। बुधवार को भी यहीं हाल रहा। बुधवार को अस्पताल में गायनी ओपीडी में कोई चिकित्सक नहीं थी। इसके चलते गर्भवतियों को काफी परेशान होना पड़ा। दिनभर वह ओपीडी के बाहर चिकित्सक का इंतजार करती रही।

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *