हरियाणा (सुनीता कागड़ा)- फर्स्ट कजन से शादी मामले में पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला लिया है। आज के समय में कई जगहों पर शादी अपने फर्स्ट कजन यानि सगे ताउ-चाचा, मामा-बुआ और मौसी के बच्चों के साथ भी शादी कर लेते हैं लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। ऐसा करने पर आपको जेल भी हो सकती है। हाईकोर्ट ने ऐसी शादी पर रोक लगाते हुए इसे गैरकानूनी करार कर दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार हाईकोर्ट ने ये फैसला एक युवक की याचिका पर सुनाया है। युवक ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी कि वो अपने चाचा की बेटी से शादी करना चाहता है। याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने इसे गैरकानूनी घोषित कर दिया है। युवक के खिलाफ लुधियाना के खन्ना सिटी-2 थाने में IPC धारा 363 अपहरण और 366ए नाबालिग लड़की को कब्जे में रखने के तहत केस दर्ज है। इस मामले में युवक ने हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत के ले अनुरोथ किया। याचिका पर सुनवाई के दौरान पता चला की लड़की नाबालिग है। उसके माता-पिता ने प्राथमिकी दर्ज कराई थी कि उसके और लड़के के पिता आपस में सगे भाई हैं।

याचिका में लड़की ने अपने माता-पिता द्वारा दोनों को परेशान किए जाने बात बताई थी और अपने दोस्त के साथ रहने का फैसला लिया था। अदालत ने दोनों के सुरक्षा देने को कहा लेकिन न्यायाधीश ने यह भी स्पष्ट किया कि यह आदेश याचिकाकर्ताओं को कानून के किसी तरह के उल्लंघन की स्थिति में कानूनी कार्रवाई से नहीं बचाएगा। जस्टिस अरविंद सिंह सांगवान ने मौजूदा याचिका पर सुनवाई में कहा याचिकाकर्ता ने इस बात का जिक्र नहीं किया था कि वह लड़की का सगा चचेरा भाई है। वे दोनों हिंदू विवाह अधिनियम के तहत एक-दूसरे से विवाह नहीं कर सकते। इस कारण सहमति संबंध का भी कोई अर्थ नहीं रह जाता।

 

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *